Thursday, 14 June 2012

सूर्य किरणों द्वारा अग्नि वर्षा कब तक?

DSC01882

कूलर की छत पे ठंड का एहसास करता पंछी

इस समय ज्येष्ट माह का उत्तराई तथा जून माह का प्रथमार्ध चल रहा है | समूचे भारत विशेषकर मध्य उत्तर एवं पश्चिम में गर्मी अपने चरम पे पहुँच गयी है | हफ़्तों से ताप ४४- ४९ डिग्री सेंटीग्रेट के बीच झूल रहा है | मानव तो मानव पशु पक्षी एवम पेड़ पौधे तक आग बरसती सूर्य कि किरणों से झुलस रहे हैं | गर्मी से अभी रहत नहीं मिलनी है |मैंने पहले भी लिखा था कि १० मई से ५ जून तक गर्मी कि तीव्रता एवं उग्रता बढती ही जाएगी तथा ताप ४६- ५० डिग्री सेंटीग्रेट पहुँच जाएगा | जून में आंधियों, बवंडरों ,तूफ़ान की अधिकता रहेगी | इन सब का क्या कारण है?

 

इस वर्ष सूर्य आकाशगंगा के परिक्रमापथ पर विशिष्ट बिंदु पर है जिससे ओजोन परत एवं ब्रहमांडइय किरणों कि तीव्रता एवं उग्रता बढ़ेगी| सूर्य कि सीढ़ी पड़ती किरणे भारतीय भूभाग ही नहीं अपितु अरब प्रायदीप सहारा, तिब्बत, नेपाल भूतन एवं भूमध्य सागरीय देशों एवं मध्य दक्षिणी यूरोप ,एवं मेक्सिको तबा के रख देगी| गर्मी कि उग्रता २१ जून तक यथावत रहेगी |जून के प्रथमार्थ में २-३ वर्षा एवं आंधियां गर्मी से रहत देगी| बाजार कि स्थिति भी डांवाडोल रहेगी |

 

झुलसाने वाली इस गर्मी के विश्वभर में तीन प्रमुख करण हैं जिनपर किसी का ध्यान नहीं जा रहा है | यह कारण हैं भीषण प्रदूषण ,भूगर्भ का गिरता जल स्तर ,तथा वनों का विनाश | जल थल वायु, मृदा ,रेडियो एक्टिव अवन इलेक्ट्रानिक कचरा प्रदूषण ,प्लास्टिक एवं औधोगिक रसायनों के प्रदूषण के करण गर्मी असहनीय होती जा रही है |५० वर्ष में ही गिरता भूजल स्तर पाचों फिट नीचे भाग चुका है अत: धरती शुष्क होने से गर्मी और सर्दी दोनों अधिक पड़ रही है |पेड़ पौधों कि अन्धाधुन कटाई ने हरी भरी धरती को शुष्क ,उजाड और वीरान बना कर चयाराहित और गर्म कर दिया है |मौसम विज्ञानी,वैज्ञानिक चाहे कुछ भी कहें पर इस समय छायादार कमरे का ताप ४७-४८ डिग्री सेंटीग्रेड तथा छत  पे रखे थर्मामीटर  का ताप ६० डिग्री सेंटीग्रेड से ऊपर तक मैंने खुद नापा है |

मेरा तो यही कहना है कि इस वर्ष मानसून भी “सामान्य” न हों कर  असामान्य रहेगा | एक तिहाई भारत अकाल और सूखे का तो दो तिहाई भारत बाढ़ कि विभीषिका झेलेगा | तडित,झंझा,समुद्री लहरों ,प्रबल भूकंपो ,ज्वालामुखी विस्फोटों से वर्षा ऋतु में प्रबल हानि होगी|

अनुमान है कि अंदमान में ३१ ,केरल में २-५ जून तक ही मानसून आएगा | भारत में एक प्रबल भूकंप का योग है |रोहिणी से शुरू यह गर्मी २१ जून तक पड़ती रहेगी और तब तक उत्तेर भारत में मानसून प्रवेश कर जाएगा |यूँ तो गर्मी  का प्रकोप सितम्बर तक रहेगा लेकिन वर्षा के करण बीच बीच में काफी रहत मिलती रहेगी |

लेखक:

DSC01160

Dr. Dileep Kumar Singh Juri Judge, Member Lok Adalat,DLSA, Astrologist,Astronomist,Jurist,Vastu and Gem Kundli Expert. Cell:९४१५६२३५८३

2 comments:

रविकर फैजाबादी said...

गरज हमारी देख के, गरज-गरज घन खूब ।
बिन बरसे वापस हुवे, धमा-चौकड़ी ऊब ।

धमा-चौकड़ी ऊब, खेत-खलिहान तपे हैं ।
तपते सड़क मकान, जीव भगवान् जपे है ।

त्राहिमाम हे राम, पसीना छूटे भारी ।
भीगे ना अरमान, भीगती देह हमारी ।।

veerubhai said...

आपका भविष्य कथन सिरे चढ़ता दीख रहा है .खुदा खैर करे .